एसोफैगस कैंसर

आहार नली २०-२५ सेमी लम्बी और २-३ सेमी चौड़ी नाली है जो मुँह से पेट मे खाना पहुंचाने के लिये कार्य करती है। ग्रासनली का कैंसर सामान्यतः दो रूपों मे विभाजित होता है स्कैम्स सैल कार्सिनोमा और एडिनो कार्सिनोमा । स्कैम्स सेल कार्सिनोमा स्तरीकृत स्कैम्स एपिथेलियम से उत्पन्न होता है और

एडिनोकार्सिनोमा स्तम्भ ग्रंथि कोशिकाओं से । सारकोमा और स्माल सेल कार्सिनोमा आमतौर पर  सभी ग्रासनली कैंसरो का १% से २% होता है। बहुत  ही दुर्लभ मामलों मे कार्सिनोमा, मेलानोमा, कार्सिनोइड्स और लिम्फोमा भी ग्रासनली मे विकसित हो सकता है

स्कैमस सेल कार्सिनोमा ग्रासनली कैंसर का एक प्रमुख उतकीय प्रकार है । इस कैंसर की घटना दर जीवन के सांतवें दशक में अधिक बट जाती है । स्कैमस सेल कार्सिनोमा श्वेतवर्णीय पुरुषों की अपेक्षा श्याम वर्ण के पुरुषों में तीन गुना अधिक पाया जाता है जबकि श्वेत वर्ण के पुरुषो में एडिनोकार्सिनोमा सामान्य रूप से पाया जाता है । स्कैमस सेल कार्सिनोमा और एडिनोकार्सिनोमा का प्राकृतिक इतिहास काफी हद तक अलग होता है । ट्राजिशन माडल द्वारा स्कैमस सेल कैंसर के लिये डिस्प्लेसिया की प्रगति और घातक परिवर्तनों से गुजरने वाले स्कैमस एपिथेलियम का वर्णन किया है । अधिकांश  एडिनोकार्सिनोमा मेटाप्लास्टिक एपिथेलियम से विकसित होते है  जो आमतौर पर बैरेटस एसोफेगस के नाम से जाना जाता है ।  यह रिपलक्स एनोफैगिटिस के दौरान स्कैमस एपिथेलियम की जगह लेता है और डिस्पेलेसिया में बदल सकता है | गेस्ट्रोएसोफेजियल रिप्लेक्स रोग ग्रासनली के अस्तर को नुकसान पहुँचा सकता है जो बैरेटस ग्रासनली कैंसर का करण बन जाता है ।  सभी एडिनोकार्सिनोमा के लगभग तीन तिमाही ग्रासनली के नीचे के भाग पाए जाते है , जबकि स्कैमस सेल कार्सिनोमा मध्यम और निम्न भागों में अधिक पाए जाते है ।

  • ग्रासनली का कैंसर पूरी दुनिया भर में पाया जाने वाला आठवाँ सबसे आम कैंसर है । सन 2012 में अनुमानतः इस कैंसर के 456,000 नए मामले ( कुल कैंसर का 3.2%) पाये गए और सभी कैंसर से होने वाली मृत्यु का यह छटा सबसे आम करण रहा है जिससे अनुमानित 400,000 मौते (कुल कैंसर का 4.9%) दर्ज की गई
  • ग्रासनली कैंसर की घटना दर और विकृति में बहुत क्षेत्रीय भिनंता मौजूद है ।
  • भारत में कैंसर संबधित मौतो में ग्रासनली कैंसर का चौथा मुख्य करण है ।
  • दुनिया भर में ग्रासनली कैंसर की घटनाओं की दर महिलाओ की अपेक्षा पुरुषों में दोगुनी से अधिक है । (पुरुषों : महिलाओ अनुपात 2.4:1 )
1 . खाना निगलने में कठिनाई
2 . अस्पष्टीकृत वजन घटना
3 .अपच या सीने में जलन
4 . सीने में दर्द
5 .  खाँसी या आवाज में भारीपन

प्रारंभिक अवस्था में ग्रासनली के कैंसर में आम तौर पर कोई लक्षण नही दिखाई देते है । 

1 . खाना निगलने में कठिनाई

2 . अस्पष्टीकृत वजन घटना

3 .अपच या सीने में जलन

4 . सीने में दर्द

5 .  खाँसी या आवाज में भारीपन

प्रारंभिक अवस्था में ग्रासनली के कैंसर में आम तौर पर कोई लक्षण नही दिखाई देते है । 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *