पेटदर्द या अपच को कभी हल्के में ना लें, GI कैंसर के हैं ये लक्षण

नई दिल्ली:  पेटदर्द को कभी भी हल्के में नहीं लेना चाहिए. गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर (पेट की आंतों या पेट के कैंसर) भारत में चौथा सबसे ज्यादा संख्या में लोगों को होने वाला कैंसर बन गया है. पिछले साल जीआई कैंसर (Gastrointestinal Cancer) के 57,394 मामले सामने आए. यह महिलाओं की तुलना में पुरुषों को ज्यादा प्रभावित करता है.

चिकित्सक बताते हैं कि जीआई कैंसर के ज्यादातर मरीजों को शुरुआत में गैर-विशिष्ट लक्षण होते हैं, जैसे पेट दर्द और असहजता होना, लगातार अपच बने रहना, मलोत्सर्ग की आदत में गड़बड़ी होना.

यह साइलेंट किलर के रूप में धीरे-धीरे बढ़ता जाता है और शरीर के आंतरिक अंगों जैसे बड़ी आंत, मलाशय, भोजन की नली, पेट, गुर्दे, पित्ताशय की थैली, पैनक्रियाज या पाचक ग्रंथि, छोटी आंत, अपेंडिक्स और गुदा को प्रभावित करता है. Read More

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *