एसोफैगस कैंसर

एसोफैगस कैंसर क्या हैं?
आहार नली २०-२५ सेमी लम्बी और २-३ सेमी चौड़ी नाली है जो मुँह से पेट मे खाना पहुंचाने के लिये कार्य करती है। ग्रासनली का कैंसर सामान्यतः दो रूपों मे विभाजित होता है स्कैम्स सैल कार्सिनोमा और एडिनो कार्सिनोमा । स्कैम्स सेल कार्सिनोमा स्तरीकृत स्कैम्स एपिथेलियम से उत्पन्न होता है और एडिनोकार्सिनोमा स्तम्भ ग्रंथि कोशिकाओं से । सारकोमा और स्माल सेल कार्सिनोमा आमतौर पर  सभी ग्रासनली कैंसरो का १% से २% होता है। बहुत  ही दुर्लभ मामलों मे कार्सिनोमा, मेलानोमा, कार्सिनोइड्स और लिम्फोमा भी ग्रासनली मे विकसित हो सकता है

स्कैमस सेल कार्सिनोमा ग्रासनली कैंसर का एक प्रमुख उतकीय प्रकार है । इस कैंसर की घटना दर जीवन के सांतवें दशक में अधिक बट जाती है । स्कैमस सेल कार्सिनोमा श्वेतवर्णीय पुरुषों की अपेक्षा श्याम वर्ण के पुरुषों में तीन गुना अधिक पाया जाता है जबकि श्वेत वर्ण के पुरुषो में एडिनोकार्सिनोमा सामान्य रूप से पाया जाता है । स्कैमस सेल कार्सिनोमा और एडिनोकार्सिनोमा का प्राकृतिक इतिहास काफी हद तक अलग होता है । ट्राजिशन माडल द्वारा स्कैमस सेल कैंसर के लिये डिस्प्लेसिया की प्रगति और घातक परिवर्तनों से गुजरने वाले स्कैमस एपिथेलियम का वर्णन किया है । अधिकांश  एडिनोकार्सिनोमा मेटाप्लास्टिक एपिथेलियम से विकसित होते है  जो आमतौर पर बैरेटस एसोफेगस के नाम से जाना जाता है ।  यह रिपलक्स एनोफैगिटिस के दौरान स्कैमस एपिथेलियम की जगह लेता है और डिस्पेलेसिया में बदल सकता है | गेस्ट्रोएसोफेजियल रिप्लेक्स रोग ग्रासनली के अस्तर को नुकसान पहुँचा सकता है जो बैरेटस ग्रासनली कैंसर का करण बन जाता है । सभी एडिनोकार्सिनोमा के लगभग तीन तिमाही ग्रासनली के नीचे के भाग पाए जाते है , जबकि स्कैमस सेल कार्सिनोमा मध्यम और निम्न भागों में अधिक पाए जाते है ।

महामारी विज्ञान और आंकड़े

  • ग्रासनली का कैंसर पूरी दुनिया भर में पाया जाने वाला आठवाँ सबसे आम कैंसर है । सन 2012 में अनुमानतः इस कैंसर के 456,000 नए मामले ( कुल कैंसर का 3.2%) पाये गए और सभी कैंसर से होने वाली मृत्यु का यह छटा सबसे आम करण रहा है जिससे अनुमानित 400,000 मौते (कुल कैंसर का 4.9%) दर्ज की गई
  • ग्रासनली कैंसर की घटना दर और विकृति में बहुत क्षेत्रीय भिनंता मौजूद है ।
  • भारत में कैंसर संबधित मौतो में ग्रासनली कैंसर का चौथा मुख्य करण है ।
  • दुनिया भर में ग्रासनली कैंसर की घटनाओं की दर महिलाओ की अपेक्षा पुरुषों में दोगुनी से अधिक है । (पुरुषों : महिलाओ अनुपात 2.4:1 )

1 . लिंग : अधिकांश देशों में महिलाओ के मुकाबले ग्रासनली कैंसर की घटना दर पुरुषों में आमतौर पर अधिक है ।

2 . धूम्रपान: ग्रासनली कैंसर का एक प्रमुख जोखिम कारक धूम्रपान: ग्रासनली कैंसर का एक स्पष्ट जोखिम कारक है ।

3 . मदिरापान : मदिरापान ग्रासनली कैंसर का एक स्पष्ट जोखिम कारक है ।

4 . तंबाकू  एवं अनुचित पोषण संबधित आदतें : सुपारी और तंबाकू का सेवन दक्षिण पूर्व एशिया और भारत जैसे क्षेत्रों में आम है । इनका संबध ग्रासनली कैंसर के विकास से पाया गया है ।

5 . गैस्ट्रोएसोफेजियल रिफ्लक्स डिसीज और बैरेटस एसोफेगस

6 . मोटापा

7 . कुछ औषधियो का सेवन

8 . आनुवंशिकी कारण

ग्रासनली कैंसर के जोखिम कारक इस कैंसर के दो प्रमुख उपप्रकारों में थोड़ा भिन्न है :

 जोखिम  स्कवेमस  सैल कार्सिनोमा एडिनोकार्सिनोमा
भौगौलिक स्थिति अफ्रीका , एशिया , ईरान ,  दक्षिणी अमेरिका पशिचमी यूरोप , उत्तरी अमेरिका ऑस्ट्रेलिया
 वर्ण श्याम वर्ण > श्वेत  वर्ण श्वेत  वर्ण > श्याम वर्ण
 लिंग पुरुष > महिलाये पुरुष > महिलाये
शराब ++++
तंबाकू ++++ ++
मोटापा +++
गैस्ट्रोएसोफेजियल रिफ्लक्स डिसीज ++++
 आहार : कम फल और सब्जियो का सेवन ++ +
सामाजिक आर्थिक स्तिथि ++
आनुवंशिक पहलू ++ +

एसोफैगस कैंसर की रोकथाम

ग्रासनली या आहार नली का कैंसर दुनिया भर की एक स्वास्थ्य समस्या है जो उन्नत चरणों में निदान हो पाने के वजह से उच्च मृत्यु दर क का बड़ा कारण है। ग्रासनली कैंसर के विकास की रोकथाम का कोई निशिचत रास्ता नहीं है । विभिन प्रकार की भौतीक , जीवन शैली और पर्यावरणीय कारकों के कारण कुछ लोगों में ग्रासनली कैंसर के दूसरे लोगों की तुलना में विकसित होने की संभावना अधिक रहती है । लेकिन स्वस्थ्य आदतों को अपना कर जैसे धूम्रपान न करना , शराब का सेवन न करना , नियमित व्यायाम , अव्याधिक वजन को नियंत्रित करना और नियमित चिकित्सीय परामर्श द्वारा ग्रासनली के कैंसर का जोखिन कम किया जा सकता है । चुंकि स्कैम्स सैल कार्सिनोमा और एडिनोकार्सिनोमा के विभिनं जोखिम कारक है इसलिये उनके रोकथाम के लिये अलग अलग दृष्टिकोण अपनाने को आवश्यक्ता होती है।

ग्रासनली कैंसर में स्कैमस सैल कार्सिनोमा के लिये प्रमुख पर्यावरणीय जोखिम कारक (सिगरेट) धूम्रपान और शराब के सेवन को सीमित करने से इसका खतरा घटाया जा सकता है । गैस्ट्रोएसोफेजियल रिफ्लक्स रोगो (जी . ई . आर . डी ) और बैरेटस ऐसोकेगस एडिनोकार्सिनोमा के जोखिम को काफी बताते है । हालाकि अब तक ऐसा कोई प्रमाणित दस्तावेज नही है जो कहता है की रिफ्लक्स रोग को खत्म करने से एडिनोकार्सिनोमा विकसित होने के जोखिम कम होता है । बैरेटस वाले रोगियो को छोडकर ग्रासनली कैंसर का पता लगाने के लिये नियमित स्क्रीनिंग नही की जाती ।

स्कैमस डिस्प्लेसिया ग्रासनली कैंसर की पूर्व कैंसर स्तिथि होती है और बैरेटस ग्रासनली एडिनोकार्सिनोमा कैंसर की पूर्व कैंसर स्तिथि होती है । इन पूर्व कैंसर अवस्थाओ का पता लगाने और उनका प्रबंधन करने से ग्रासनली कैंसर की मृत्युदर को कम किया जा सकता है ।

1 . खाना निगलने में कठिनाई
2 . अस्पष्टीकृत वजन घटना
3 .अपच या सीने में जलन
4 . सीने में दर्द
5 .  खाँसी या आवाज में भारीपन

प्रारंभिक अवस्था में ग्रासनली के कैंसर में आम तौर पर कोई लक्षण नही दिखाई देते है ।

1 . दूरबीन द्वारा जाँच ( एंडोस्कोपी )
ग्रासनली कैंसर के पूर्व कैंसर अवस्थाओ के निदान हेतु एन्डोस्कोपी एक अच्छी विधि है । एंडोस्कोपी के दौरान एक लचीली नली ( टूयूब ) जो विडियोस्कोप से जुड़ा होता है को गले द्वारा ग्रासनली में डाल दिया जाता है और चिकित्सक इसके अंदरुनी हिस्से के संदिग्ध क्षेत्र को देख पाता है ।
2 . बायोप्सी । टुकड़े की जाँच
एन्डोस्कोपी के दौरान संदिग्ध चिन्हित क्षेत्रों से टुकड़े लेकर उन्हें कैंसर कोशिकाओ का पता लगाने के लिये प्रयोगशाला जाँच के लिये भेजा जाता है।
3 . ब्रोन्कोस्कोपी : यह जाँच ग्रासनली कैंसर के #उपरी हिस्से के कैंसर में यह देखने के लिये की जाती है कि कैंसर विंडपाइप या वायुपेशी और फेफड़ों में तो नहीं फैला है।
4 . एक्स रे , सी . टी . स्कैन , एम . आर . आई , पी . ई . टी . स्कैन जैसे परीक्षण यह पता लगाने के लिये किये जाते है कि कैंसर कहाँ कहाँ फैला है ।

चरण & इलाज

ग्रासनली कैंसर की अवस्थाये शून्य से चार तक होती है । विभिन्न अवस्थाये इंगित करती है कि कैंसर कितना बड़ा या छोटा है और शरीर के कीन हिस्सों में फैल गया है । कैंसर की चौथी अवस्था उन्नत मानी जाती है

उपचार :
1 . राष्ट्रोय व्यापक कैंसर नेटवर्क (एन . सी . सी . एन ) ग्रासनली कैंसर के उपचार हेतु दिशानिर्देश प्रदान करता है ।
2 . उपचार हेतु कई विकल्प लिये जाते हे । छोटे ट्यूमर के लिये केवल ट्यूमर ( गाँठ ) को निकाल सकते है । बड़े या फैले हुये कैंसर के लिये विस्तृत शल्य
चिकित्सा या विकिरण चिकित्सा के विकल्प होते है ।
3 . अनुशंसित उपचार मुख्य रूप से ग्रासनली कैंसर के अवस्था , ट्यूमर का स्थान , और मरीज की शारीरिक तथा चिकित्सा स्तिथि देखने के पश्चात निर्धारित किया जाते है

संदर्भ

GLOBOCAN 2012 (IARC) , Section of Cancer Surveillance (1/3/2018)
Bray F, Jemal A, Grey N, Ferlay J, Forman D. Global cancer transitions according to the Human Development Index (2008-2030): A population-based study. Lancet Oncol 2012;13:790-801.

Brown LM, Devesa SS, Chow WH. Incidence of adenocarcinoma of the esophagus among white Americans by sex, stage, and age. J Natl Cancer Inst 2008;100:1184-7.

Cherian JV, Sivaraman R, Muthusamy AK, Jayanthi V. Carcinoma of the esophagus in Tamil Nadu (South India): 16-year trends from a tertiary center. J Gastrointestin Liver Dis 2007;16:245-9

Ferlay J, Soerjomataram I, Ervik M, Dikshit R, Eser S, Mathers C, et al. GLOBOCAN 2012 v1.0, Cancer Incidence and Mortality Worldwide: IARC CancerBase No. 11. Lyon, France: International Agency for Research on Cancer; 2013. Available from: http://www.globocan.iarc.fr

Blot WJ, Devesa SS, Fraumeni JF. Continuing climb in rates of esophageal adenocarcinoma: an update. JAMA 1993; 270: 1320

Young JL, Percy CL, Asire AJ, Berg JW, Cusano MM, Gloeckler LA, Horm JW, Lourie WI, Pollack ES, Shambaugh EM. Zhang Y. Risk factors of esophageal cancer WJG|www.wjgnet.com 5604 September 14, 2013|Volume 19|Issue 34| Cancer incidence and mortality in the United States, 1973-77. Natl Cancer Inst Monogr 1981; (57): 1-187
Kwatra KS, Prabhakar BR, Jain S, Grewal JS. Sarcomatoid carcinoma (carcinosarcoma) of the esophagus with extensive areas of osseous differentiation: a case report. Indian J Pathol Microbiol 2003; 46: 49-51
Enzinger PC, Mayer RJ. Esophageal cancer. N Engl J Med 2003; 349: 2241-2252 [PMID: 14657432 DOI: 10.1056/NEJMra035010]

Cook MB. Non-acid reflux: the missing link between gastric atrophy and esophageal squamous cell carcinoma? Am J Gastroenterol 2011; 106: 1930-1932 [PMID: 22056574 DOI: 10.1038/ ajg.2011.288]

Dawsey SM, Lewin KJ, Wang GQ, Liu FS, Nieberg RK, Yu Y, Li JY, Blot WJ, Li B, Taylor PR. Squamous esophageal histology and subsequent risk of squamous cell carcinoma of the esophagus. A prospective follow-up study from Linxian, China. Cancer 1994; 74: 1686-1692
Dawsey SM, Lewin KJ, Liu FS, Wang GQ, Shen Q. Esophageal morphology from Linxian, China. Squamous histologic findings in 754 patients. Cancer 1994; 73: 2027-2037
Huang Q, Fang DC, Yu CG, Zhang J, Chen MH. Barrett’ s esophagus-related diseases remain uncommon in China. J Dig Dis 2011; 12: 420-427 [PMID: 22118690 DOI: 10.1111/ j.1751-2980.2011.00535.x]
Kountourakis P, Papademetriou K, Ardavanis A, Papamichael D. Barrett’s esophagus: treatment or observation of a major precursor factor of esophageal cancer? J BUON 2011; 16: 425-430
Conteduca V, Sansonno D, Ingravallo G, Marangi S, Russi S, Lauletta G, Dammacco F. Barrett’s esophagus and esophageal cancer: an overview. Int J Oncol 2012; 41: 414-424 [PMID: 22615011 DOI: 10.3892/ijo.2012.1481]
Hongo M, Nagasaki Y, Shoji T. Epidemiology of esophageal cancer: Orient to Occident. Effects of chronology, geography and ethnicity. J Gastroenterol Hepatol 2009; 24: 729-735 [PMID: 19646015 DOI: 10.1111/j.1440-1746.2009.05824.x]
Shaheen N, Ransohoff DF. Gastroesophageal reflux, barrett esophagus, and esophageal cancer: scientific review. JAMA 2002; 287: 1972-1981
Pedrazzani C, Bernini M, Giacopuzzi S, Pugliese R, Catalano F, Festini M, Rodella L, de Manzoni G. Evaluation of Siewert classification in gastro-esophageal junction adenocarcinoma: What is the role of endoscopic ultrasonography? J Surg Oncol 2005; 91: 226-231 [PMID: 16121346 DOI: 10.1002/jso.20302]
Suh YS, Han DS, Kong SH, Lee HJ, Kim YT, Kim WH, Lee KU, Yang HK. Should adenocarcinoma of the esophagogastric junction be classified as esophageal cancer? A comparative analysis according to the seventh AJCC TNM classification. Ann Surg 2012; 255: 908-915 [PMID: 22504190 DOI: 10.1097/SLA.0b013e31824beb95]
Schumacher G, Schmidt SC, Schlechtweg N, Roesch T, Sacchi M, von Dossow V, Chopra SS, Pratschke J, Zhukova J, Stieler J, Thuss-Patience P, Neuhaus P. Surgical results of patients after esophageal resection or extended gastrectomy for cancer of the esophagogastric junction. Dis Esophagus 2009; 22: 422-426 [PMID: 19191862 DOI: 10.1111/j.1442-2050.2008.00923.x]
Hasegawa S, Yoshikawa T, Aoyama T, Hayashi T, Yamada T, Tsuchida K, Cho H, Oshima T, Yukawa N, Rino Y, Masuda M, Tsuburaya A. Esophagus or stomach? The seventh TNM classification for Siewert type II/III junctional adenocarcinoma. Ann Surg Oncol 2013; 20: 773-779
Hosokawa Y, Kinoshita T, Konishi M, Takahashi S, Gotohda N, Kato Y, Daiko H, Nishimura M, Katsumata K, Sugiyama Y, Kinoshita T. Clinicopathological features and prognostic factors of adenocarcinoma of the esophagogastric junction according to Siewert classification: experiences at a single institution in Japan. Ann Surg Oncol 2012; 19: 677-683
Fang WL, Wu CW, Chen JH, Lo SS, Hsieh MC, Shen KH, Hsu WH, Li AF, Lui WY. Esophagogastric junction adenocarci noma according to Siewert classification in Taiwan. Ann Surg Oncol 2009; 16: 3237-3244 [PMID: 19636628 DOI: 10.1245/ s10434-009-0636-9]
Yoon HY, Kim HI, Kim CB. [Clinicopathologic characteristics of adenocarcinoma in cardia according to Siewert classification]. Korean J Gastroenterol 2008; 52: 293-297 [PMID: 19077475] 27 Szántó I, Vörös A, Gonda G, Nagy P, Altorjay A, Banai J, Gamal EM, Cserepes E. [Siewert-Stein classification of adenocarcinoma of the esophagogastric junction]. Magy Seb 2001; 54: 144-149
María José Domper Arnal, Ángel Ferrández Arenas, and Ángel Lanas Arbeloa. Esophageal cancer: Risk factors, screening and endoscopic treatment in Western and Eastern countries. World J Gastroenterol. 2015 Jul 14; 21(26): 7933–7943.
Lao-Sirieix P, Fitzgerald RC. Screening for oesophageal cancer. Nat Rev Clin Oncol. 2012;9:278–287.
Ajani JA, Barthel JS, Bentrem DJ, et al. Esophageal and esophagogastric junction cancers. J Natl Compr Canc Netw 2011;9:830-87
Turati F, Tramacere I, La Vecchia C, Negri E. ⦁ A meta-analysis of body mass index and esophageal and gastric ⦁ cardia⦁ adenocarcinoma. Ann Oncol 2013;(3):609-17.
V Bagnardi, M Rota, E Botteri, et al. ⦁ Alcohol consumption and site-specific cancer risk: a comprehensive ⦁ doseâ⦁ €“response meta-analysis. Br J Cancer. 2015 Feb 3; 112(3): 580–593.