अमाशय का कैंसर

अमाशय का कैंसर क्या हैं?

जो कैंसर पेट के अंदर कहीं भी शुरू होता है या अमाशय की दीवार से जुडी कोशिकाओं को प्रभावित करता है उसे अमाशय का कैंसर कहा जाता है ।

अमाशय शरीर के ऊपरी हिस्से में फेफडों के विल्कुल नीचे की ओर स्थित एक माँसलीय थैलीनुमा अंग है जो तीन भागों में विभाजित है :
(i) कार्डिया का शीर्ष भाग जो ग्रासनली से जोडता है ।
(ii) फंडस , पेर का मध्य या मुख्य भाग
(iii) पेर का अंतिम या निचला हिस्सा पाइलोरस और एन्ट्रम, कार्डिया , फंडस और शरीर । कार्पेस को एक साथ समीपस्थ पेट कहा जाता है और अंतिम दो भागों अर्थात एंट्रम और पाइलोरस पेट का दूरस्थ हिस्सा बनाते है । पेट के समीपस्थ हिस्से में कुछ कोशिकाएं एसिड या अम्ल बनाती है ,पेप्सिन नामक एक पाचन एंजाइम होता है जो भोजन के पाचन में मदद करता है । शरीर में एक आंतरिक प्रोटीन होता है जो विटामिन बी-12 के अवशोषण की सुविधा प्रदान करता है ।

भोजन का संचालन दो वाल्व द्वारा नियंत्रित किया जाता है एक ऊपरी तरक जो पेट को गले के साथ जोडता है जिसे कार्डियक स्किंटर कहते है । यह अन्न को अन्दर से नियंत्रित करता है । पेट के निचली तरक दूसरा यंत्र होता है जो आंत्र से पेट को जोडता है , इसे पाइलोरिक स्किंटर कहा जाता है ।

यद्यपि पेट के किसी भी हिस्से में कैंसर शुरू हो सकता है ज्यादातर अमाशय के कैंसर में पेट के भीतरी हिस्से की ग्रंथि कोशिकाओं (जो म्यूकस और अन्य तरल पदार्थ बनाती और छोडती है ) से उत्पन्न होता है । इन्हें एडिनोकार्सिनोमा कहा जाता है ।

हम जो भोजन निगलते है वह ग्रासनली की मासपेशियों द्वारा पेट में धकेल दिया जाता है । पेट द्वारा स्त्रावित अम्ल द्वारा भोजन आगें की पाचन प्रकिया हेतु छोटी आंत में आ जाता है । पेट के दीवार की ग्रंथियों द्वारा अम्ल का रिसाब होता है जिसकी प्रकृति अम्लीय होती है । पेट में अम्ल और प्रोटीन (एंजाइम) का उप्पादन एवं रिसाब जारी रहता है , भले ही पेट खाली हो । एसिड और पेप्सिन से पेट की दीवार की रक्षा की लिये मोटी म्यूकस की परत पैदा होती है ।

आँकड़े

*अमाशय का कैंसर भारत में छटवें स्थान पर है । होंठ : मुख का कैंसर और फेफडों का कैंसर के बाद यह तीसरा सबसे आम कैंसर है । महिलाओं में आम कैंसर में यह छठे नंबर पर है ।

*वर्ष 2012 में भारत में अमाशय के कैंसर के लिये अनुयानित आयु समायोजि घटना दर 8.6 प्रति 100,000 आबादी थी । वर्ष 2012 में अमाशय कैंसर के पुरुषों में मामले अनुमात: 43354 थे। पुरुषों में घटना दर महिलाओं से लगभग दोगुनी है । वर्ष 2012-14 की रन सी आर पी रिपोर्ट के मुताबिक बारह उतरपूर्वी राज्य अमाशय के कैंसर के मामलों में शीर्ष स्थान पर है ।

पांपपर जिला (50.2) , ऐजोल (43.9) , मिजोरम राज्य (41.1) और मिजोरम ऐजोल जिलों से अतिरिक्त (39.3) उतर पूर्वी राज्यों में इस कैंसर को घटना दरों में सबसे अग्रिम है । दक्षिण राज्यों में चेन्नई सबसे अग्रिम स्थान पर है ।

*अमाशय के कैंसर की आयु मानकीकृत वार्षिक घटना पर भारत में व्यापक रूप से पुरुषों में 1.2 से 50.2 /100000 पुरुष है और महिलाओं में प्रति 100,000 में से 0.8 से 29.2 मामले दर्ज होते है ।

यह ज्ञान नही है की अमाशय का कैंसर होने के क्या कारण है पर शोध द्वारा कुछ जोखिम कारकों का पता चला है जो अमाशय के कैंसर के खतरे को बढाते है। इन जोखिम कारकों के होने का मतलब यह नही है कि व्यक्ति को निशिचत ही अमाशय का कैंसर हो जायेगा । ज्यादातर अमाशय के कैंसर बदलती जीवनशैली संबधित है।

संशोधन योग्य (जोखिम कारक)
इन जोखिम कारकों में फल और सब्जियों की कम खपत , अधिक नमक का सेवन , धूम्रपान और संरक्षित खाध-पदार्थ, तंबाकू चबाना और विकिरण का अनावरण शामिल है ।
(a) आहार : ऐसा माना जाता है की अमाशय के कैंसर को बढ़ाने में आहार एक प्रमुख भूमिका निभाता है । नमक का अधिक मात्रा में सेवन , स्मोकड भोजन , संरक्षित खाध पदार्थ अमाशय के कैंसर के बढते जोखिम से जुडे होते है ।
(b) फल और सब्जियाँ: बहुत कम मात्रा में फल और सब्जियाँ का सेवन भी पेट के कैंसर होने का खतरा बढाता है । संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि और संगठन की सिकारिश के अनुसार है । संयुक्त राष्ट्र खाद्य और कृषि और संगठन की सिकारीश के अनुसार प्रतिदिन प्रति व्यक्ति कम से कम 400 ग्राम फल और सब्जियों का सेवन करना चाहिये ।
(c) नमक : भोजन में नमक की अधिकता अमाशय के कैंसर के खतरे को बढाती है । हमारे द्वारा खाए जाने वाले अधिकांश भोज्य पदार्थ जिनमें नमक की मात्रा अधिक होती है जैसे अचार , रोटी , अनाज आदि इस खतरे को बढाते है । यदि आप बहुत मसालेदार सब्जियाँ खाते हैं जिनमें उच्छ नमक हैं , वी भी इस कैंसर के जोखिम को बढाते हैं ।
(d) माँस : संसाधित माँस का सेवन अमाशय के कैंसर के खतरे को बढाता हैं । जैसे बेकन , सलामी और सासेज इत्यादि । भारत सरकार की सिफारिश के अनुसार दिन में 90 ग्राम से अधिक लाल और प्रसंस्कृत माँस न खाने की सलाह दी गई हैं और 70 ग्राम तक ही पके हुये माँस को खाने की सीकारिशं की गई हैं ।
(e) स्मोक्ड फ़ूड : इन भोज्य पदार्थो से हानिकारक रसायन उत्पन्न होते हैं तथा इनका अधिक मात्रा में सेवन अमाशय के कैंसर के जोखिम को बढाता हैं ।
(f) उपचारित माँस : इस विधि में भोजन में संरक्षण हेतु नमक , चीनी , नाइट्रेट्स / नाईट्राइट्स डाले जाते हैं । नाइट्रेट्स , व नाईट्राइट्स ‘ एच पाइलोरी ‘ कीटाणु से प्रतिक्रिया करके हानिकारक पदार्थ ‘ नाइट्रोसामीन ‘ बनाते हैं जो कैंसर का खतरा बढाने की क्षमता रखता हैं ।
(g) धूम्रपान (तंबाकू) गैर धूम्रपान करने वालों की तुलना में धूम्रपान करने वालों को अमाशय के कैंसर का खतरा अधिक रहता है।

कुछ भारतीय अध्ययनों के अनुसार पेट (अमाशय) के ऊपरी हिस्से के कैंसर के विकास में धूम्रपान एक बड़ा जोखिम कारक हैं । धूम्रपान करने वालों को कैंसर के अधिक जोखिम होता है । उनकी तुलना में जो धूम्रपान छोड़ चुके हैं । तंबाकू चबाने से अमाशय के कैंसर का खतरा अधिक बढ जाता हैं । तंबाकू के उपयोग की मात्रा में वृद्धि के साथ जोखिम की बढती प्रवृति भी देखी गई हैं ।

(h) मधपान : पुरुषों में अत्याधिक मात्रा में शराब का सेवन अमाशय के कैंसर के खतरे को अधिक बढाता हैं ।
(i) हेलिकोबेक्टर पाइलोरी : यह आमतौर पर एक बैक्टीरिया होता हैं जो पेट और पचनंतत्र के अंदर पाया जाता हैं । इसे पेप्टिक अल्सर और गैस्ट्रिटिस होने का मुख्य कारण माना जाता हैं ।
हेलिकोवेक्टर पायलोरी बैक्टीरिया पेट की आंतरिक झिल्ली पर हमला करता हैं । यह झिल्ली एसिड से पेट की दीवार की रक्षा करती हैं । यह बैक्टीरिया युरिएस नामक को ऐंजाइम को स्रावित करता है। यूरिकएज रासायनिक यूरिया को अमोनिया और बाइकाबेनिट में परिवर्तित करके उसके अम्लीय वातावारण को निष्क्रिय करता है । ये उत्पाद पेट की आंतरिक झिल्ली को कमजोर करते हैं और अम्ल को पेट के संवेदनशील परत में  प्रवेश करने की अनुमति देते हैं , जिससे अल्सर या घाव बनते हैं । इस बैक्टीरिया का आकार अमाशय की श्लेष्म परत में जाने की सहूलियत देता है , जो पेट की अंदरूनी जगह से कम अम्लीय हैं । इसके कारण अल्सर से खून आ सकता हैं और संक्रमण हो सकता हैं । या पाचनतंत्र के माध्यम से भोजन को आगे बढने से रोक सकता है। चूंकि यह बैक्टीरिया धीमी गति से बढता है इसलिये इससे संक्रमित अधिकतर लोगों में लक्षण नही दिखाई देते । लेकिन इसके संक्रमण वाले लोगों को पेप्टिक अल्सर होने की संभावना अत्यधिक होती है । इसका इलाज ऐंटी बायोटिक्स के साथ किया जा सकता है । यदि ध्यान न दिया जाये तो पेप्टिक अल्सर आगे अमाशय के कैंसर का कारण बन सकते हैं।
(j) कुछ चिकित्सीय जो अमाशय के कैंसर का कारण बनती है।

1 . संशोधित जोखिम कारकों के संपर्क में आने से बचें।

2 . सुरक्षात्मक कारकों को अपनायें जो अमाशय के कैंसर के खतरे को कम कर सकते है ।

3 . हेलिकोबेक्टर पायलोरी बैक्टीरिया के संक्रमण का समय से उपचार करें ।

4 . धूम्रपान का उपयोग न करें ।

5 . शराब का सेवन न करें या सीमित मात्रा में ही करें ।

1 . निगलने में कठिनाई (डिस्फेगिया)
2 . खाने के बाद पेट फुला महसूस होना ।
3 . थोडा सा खाने के बाद भी पेट भरा हुआ लगना
4 . सीने में जलन
5 . अपच जो हमेशा मौजूद रहती है और डकारें आना
6 . निरंतर मतली या उबकाई सा महसूस होना
7 . उल्टी में खून आना
8 . बिना वजह वजन घटना
9 . थकान
10 . कब्ज
11 . काला मल या मल में रक्त का उपस्तिथ होना
12 . पेट में पानी एकत्रित होना या सूजन
13 . सांस लेने में परेशानी (खून की कमी के कारण )
उपरोक्त किसी भी लक्षण की उपस्तिथि का अर्थ यह नही है की आपकों निशिचत रूप से अमाशय का कैंसर है लेकिन यदि आपको इनमें एक या अधिक लक्षण हों तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श करें ।
अमाशय के कैंसर का उपचार कैंसर के विकास और उसकी अवस्था पर निर्भर करता है । अमाशय के कैंसर के उपचार विकल्पों में
एंडोस्कोपिक शोधन अमाशय की आंशिक शल्यक्रिया और कुल शल्यक्रिया , कीमोथरेपी और रेडियोथेरेपी शामिल है ।
अयोग्य या ठीक न हो सकने वाले कैंसर के लिये उपचारत्मक उपाय अपनाने चाहिये ।
  1. Ferlay J, Soerjomataram I, Ervik M, et al. (2013) GLOBOCAN 2012 v1.0, Cancer Incidence and Mortality Worldwide: IARC Cancer Base No. 11.Lyon, France: http://globocan.iarc.fr accessed on 9th August, 2017.
  2. Three-Year Report of Population Based Cancer Registries 2012-2014. http://ncrpindia.org/ALL_NCRP_REPORTS/PBCR_REPORT_2012_2014/ALL_CONTENT/Printed_Version.htm accessed on 8th August ,2017
  3. World Cancer Research Fund International/American Institute for Cancer Research. Continuous Update Project Report: Diet, Nutrition, Physical Activity and Stomach Cancer. 2016. http://www.wcrf.org/sites/default/files/Stomach-Cancer-2016-Report.pdf accessed on 9th August, 2017.
  4. Report of a Joint FAO/WHO Expert Consultation. 2003. Diet, nutrition and the prevention of chronic diseases What is serving? Food and agriculture organization of the united nation. http://www.fao.org/english/newsroom/focus/2003/fruitveg2.htm accessed on 7th June,2017
  5. Dietary guidelines for Indians: A manual. National Institute of Nutrition; Hyderabad. 2011.
  6. Landon S. Fruit juice nutrition and health. Food Australia. 2007;59:533–8.
  7. Wang XQ, Terry PD, Yan H. Review of salt consumption and stomach cancer risk: epidemiological and biological evidence. World J Gastroenterol. 2009 May 14;15(18):2204-13.
  8. Preservation, processing, preparation. http://www.wcrf.org/int/research-we-fund/our-cancer-prevention. recommendations/preservation-processing-preparation accessed on 9th August, 2017.
  9. Nutrient requirements and recommended dietary allowances for Indians. A report of the expert group of the Indian Council of Medical research 2009. National Institute of Nutrition, Hyderabad.
  10. OECD (2017), Meat consumption (indicator). doi: 10.1787/fa290fd0-en (Accessed on 09 August 2017) https://data.oecd.org/agroutput/meat-consumption.htm
  11. Fritz WSoós K.Smoked food and cancer. 1980;(29):57-64.
  12. Dikshit RP, Mathur G, Mhatre S, et al. Epidemiological review of gastric cancer in India. Indian J Med PaediatrOncol. 2011 Jan-Mar; 32(1): 3–11.doi:  4103/0971-5851.81883 PMCID: PMC3124986.
  13. Barad AK, Mandal SK, Harsha HS, et al. Gastric cancer—a clinicopathological study in a tertiary care centre of North-eastern India. J GastrointestOncol. 2014 Apr; 5(2): 142–147. doi: 3978/j.issn.2078-6891.2014.003 PMCID: PMC3999624
  14. Phukan RK, Narain K, Zomawia E, Hazarika NC, Mahanta J. Dietary habits and stomach cancer in Mizoram, India.J Gastroenterol. 2006 May;41(5):418-24.
  15. Siddiqi M, Tricker AR, Preussmann R Formation of N-nitroso compounds under simulated gastric conditions from Kashmir foodstuffs.CancerLett. 1988 Apr;39(3):259-65.
  16. Ma K, Baloch Z, He T-T, Xia X. Alcohol Consumption and Gastric Cancer Risk: A Meta-Analysis. Medical Science Monitor : International Medical Journal of Experimental and Clinical Research. 2017;23:238-246. doi:10.12659/MSM.899423.
  17. Kusters JG, van Vliet AH, Kuipers EJ. Pathogenesis of Helicobacter pylori infection. Clinical Microbiology Reviews 2006; 19(3):449–490.
  18. Helicobacter and Cancer Collaborative Group. Gastric cancer and Helicobacter pylori: A combined analysis of 12 case control studies nested within prospective cohorts. Gut 2001; 49(3):347–353.
  19. Eslick GD, Lim LL, Byles JE, et al. Association of Helicobacter pylori infection with gastric carcinoma: A meta-analysis. American Journal of Gastroenterology 1999; 94(9):2373–2379.
  20. Uemura N, Okamoto S, Yamamoto S, et al. Helicobacter pylori infection and the development of gastric cancer. New England Journal of Medicine 2001; 345(11):784–789.
  21. Wu XC, Andrews P, Chen VW, et al. Incidence of extranodal non-Hodgkin lymphomas among whites, blacks, and Asians/Pacific Islanders in the United States: Anatomic site and histology differences. Cancer Epidemiology 2009; 33(5):337–346.
  22. https://www.niddk.nih.gov/health-information/digestive-diseases/gastritis accessed on 8th September, 2017.
  23. Murphy G, Dawsey SM, Engels EA et al. Cancer Risk After Pernicious Anemia in the US Elderly Population. ClinGastroenterolHepatol. 2015 Dec;13(13):2282-9.e1-4. doi: 10.1016/j.cgh.2015.05.040. Epub 2015 Jun 14.
  24. Sue S, Shibata W, Maeda S. Helicobacter pylori-Induced Signaling Pathways Contribute to Intestinal Metaplasia and Gastric Carcinogenesis.Biomed Res Int. 2015;2015:737621. doi: 10.1155/2015/737621. Epub 2015 May 10.
  25. Islam RS, Patel NC, Lam-Himlin D, et al. Gastric Polyps: A Review of Clinical, Endoscopic, and Histopathologic Features and Management Decisions. Gastroenterology & Hepatology. 2013;9(10):640-651.
  26. Tran-Duy A, Spaetgens B, Hoes AW, et al. Use of Proton Pump Inhibitors and Risks of Fundic Gland Polyps and Gastric Cancer: Systematic Review and Meta-analysis. ClinGastroenterolHepatol. 2016 Dec;14(12):1706-1719.e5. doi: 10.1016/j.cgh.2016.05.018. Epub 2016 May 20.
  27. Yang P, Zhou Y, Chen B, et al. Overweight, obesity and gastric cancer risk: results from a meta-analysis of cohort studies. Eur J Cancer. 2009 Nov;45(16):2867-73. doi: 10.1016/j.ejca.2009.04.019. Epub 2009 May 6.
  28.   Li KDan ZHu X, et al.  CD14 regulates gastric cancer cell epithelial‑mesenchymal transition and invasion in vitro. Oncol Rep. 2013 Dec;30(6):2725-32. doi: 10.3892/or.2013.2733.
  29. Raj A, J Mayberry J, and Podas T. Occupation and gastric cancer Postgrad Med J. 2003 May; 79(931): 252–258.doi:  1136/pmj.79.931.252PMCID: PMC1742699
  30. Yaghoobi M, Bijarchi R, Narod SA. Family history and the risk of gastric cancer. British Journal of Cancer. 2010;102(2):237-242. doi:10.1038/sj.bjc.6605380.
  31. Zhiwei Wang, Lei Liu, Jun Ji, Jianian Zhang, Min Yan, Jun Zhang, Bingya Liu, Zhenggang Zhu, Yingyan Yu. ABO Blood Group System and Gastric Cancer: A Case-Control Study and Meta-Analysis Int J Mol Sci. 2012; 13(10): 13308–13321. Published online 2012 Oct 17. doi: 10.3390/ijms131013308
  32. Setia N, Clark JW, Duda DG, et al. Familial Gastric Cancers Oncologist. 2015 Dec; 20(12): 1365–1377. Published online 2015 Sep 30. doi: 10.1634/theoncologist.2015-0205]
  1. Eom SY, Yim DH, Zhang Y, et al. Dietary aflatoxin B1 intake, genetic polymorphisms of CYP1A2, CYP2E1, EPHX1, GSTM1, and GSTT1, and gastric cancer risk in Korean. Cancer Causes Control. 2013 Nov;24(11):1963-72. doi: 10.1007/s10552-013-0272-3. Epub 2013 Aug 15.
  2. Wogan GN, Hecht SS, Felton JS, Conney AH, Loeb LA.Environmental and chemical carcinogenesis.Semin CancerBiol. 2004 Dec;14(6):473-86. Review.
  1. CONSENSUS DOCUMENT FOR MANAGEMENT OF GASTRIC CANCER. http://www.icmr.nic.in/guide/cancer/Gastric/Gastric%20Cancer%20Final%20pdf%20for%20farrow.pdf accessed on 25th July,2017